Sunday, 7 November 2010

सारी दुनिया

गज़ल
सारी दुनिया संवारनी है मुझे ।।
क्योंकि वो तुझपे वारनी है मुझे।।

चांद को अपनी हथेली में लेकर
कितनी ही शब गुज़ारनी है मुझे ॥

1 comment: